कविता, कहानी, ग़ज़ल, गीत, पौराणिक, धार्मिक एवं अन्य विधाओं का मायाजाल

विज्ञापन

लो दिन बीता लो रात गयी – हरिवंश राय बच्चन

harivansh rai bachchan

लो दिन बीता लो रात गयी-हरिबंश राय बच्चन

सूरज ढल कर पच्छिम पंहुचा,
डूबा, संध्या आई, छाई,
सौ संध्या सी वह संध्या थी,
क्यों उठते-उठते सोचा था
दिन में होगी कुछ बात नई
लो दिन बीता, लो रात गई

धीमे-धीमे तारे निकले,
धीरे-धीरे नभ में फ़ैले,
सौ रजनी सी वह
रजनी थी,
क्यों संध्या को यह सोचा था,
निशि में होगी कुछ बात नई,
लो दिन बीता, लो रात गई

चिडियाँ चहकी, कलियाँ महकी,
पूरब से फ़िर सूरज निकला,
जैसे होती थी, सुबह हुई,
क्यों सोते-सोते सोचा था,
होगी प्रात: कुछ बात नई,
लो दिन बीता, लो रात गई

Related Post
विज्ञापन

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

विज्ञापन

साहित्य: team@literatureinindia.in

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

लिटरेचर इन इंडिया: हिंदी प्रेमियों द्वारा संचालित हिंदी साहित्य, समाचार एवं अन्य उपयोगी हिंदी सामग्री का मायाजाल
विज्ञापन
हाल फ़िलहाल
विज्ञापन