Posted on: September 26, 2021 Posted by: लिटरेचर इन इंडिया Comments: 0
एस आर हरनोट

एस. आर. हरनोट का जन्म

२२ जनवरी १९५५ , हिमाचल प्रदेश के जिला शिमला की पंचायत व गाँव चनावग में.

एस. आर. हरनोट की शिक्षा

बी.ए (आनर्स), एम.ए (हिन्दी), पत्रकारिता, लोक सम्पर्क एवं प्रचार-प्रसार में उपाधि पत्र.

एस. आर. हरनोट का कार्यक्षेत्र

वर्ष १९७३ से वर्ष १९७७ तक प्रदेश सरकार के औद्यौगिक विभाग की भूगर्भ शाखा में लिपिक के पद पर कार्य तथा उसके बाद हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम में वर्ष १९७७ में स्टैनोग्राफर के पद से नौकरी की शुरूआत. वर्ष २०१३ जनवरी में उप महाप्रबन्धक (प्रचार एवं सूचना) के पद से सेवा अवकाश. लेखन पर्यटन और फोटोग्राफी में समान रूप से सक्रिय.

 

एस. आर. हरनोट की प्रकाशित कृतियाँ

Advertisements

कहानी संग्रह – पंजा, आकाशबेल, पीठ पर पहाड़, दारोश, जीनकाठी, मिट्टी के लोग, लिटन ब्लाॅक गिर रहा है, कीलें, आधार चयन कहानियाँ, १० प्रतिनिध कहानियाँ, नदी गायब है (पर्यावरणीय चेतना की कहानियाँ-संपादनः डा. उषा रानी राव और माफिया (अंग्रेजी कहानी संग्रह-सरोज वशिष्ठ द्वारा अनुवादित). कैंब्रिज स्कॉलर्ज, यू.के. से अंग्रेजी अनुवाद की पुस्तक कैट्स टाक (संपादनरू प्रो. मीनाक्षी ऍफ़ पॉल और खेमराज शर्मा)

उपन्यास– हिडिम्ब

एस. आर. हरनोट की अन्य कृतियाँ

यात्रा विवरण– यात्रा (किन्नौर, स्पिति, लाहुल और मणिमहेश पर सांस्कृतिक एवं ऐतिहासिक यात्राएँ) हिमाचल से जान पहचान, हिमाचल एट ए ग्लास (संयुक्त कार्य) और हिमाचल प्रदेशः मंदिर और लोकश्रुतियाँ.

विज्ञापन
विज्ञापन

हिमाचल की संस्कृति और जनजीवन पर पांच पुस्तकें-हिमाचल के मंदिर और उनसे जुड़ी लोक कथाएँ.

अनुवाद– २३ कहानियाँ अंग्रेजी, २ मराठी, ७ गुजराती, १ तेलगु, १ उड़िया और एक कहानी रूसी भाषा में अनुवादित और प्रकाशित. हिडिम्ब उपन्यास का मराठी अनुवाद व प्रकाशन.

इसके अतिरिक्त देश व विदेश से प्रकाशित ३० से अधिक हिन्दी, अंग्रेजी, गुजराती, मराठी, पंजाबी और कई अन्य भाषाओं के संपादित संकलनों तथा अनेक वेब पत्रिकाओं में कहानियाँ संकलित. कई कहानियों का नाट्य रुपान्तरण और मंचन. कई विश्वविद्यालयों में एम.फिल/पी.एच.डी के लिए शोध और हिन्दी तथा अंग्रेजी भाषा के विविध पाठ्यक्रमों में कहानियाँ शामिल. कहानी ’दारोश’ पर दिल्ली दूरदर्शन द्वारा ’इंडियन क्लासिक्स सीरीज के अंतर्गत’ फिल्म का निर्माण व प्रसारण. कहानी ‘कील‘ पर आर्यन हरनोट, मुट्ठी में गाँव पर अदाकार मुम्बई और कहानी ‘लाल होता दरख़्त पर‘ फिल्म निर्माता डॉ देवकन्या ठाकुर द्वारा लघु फिल्मों का निर्माण. फोटोग्राफी में विशेष रुचि और कई छायाचित्र प्रदर्शनियों के आयोजन. हिन्दी साहित्य की लधु पत्रिकाओं के प्रचार-प्रसार में सक्रिय सहयोग. हिडिम्ब उपन्यास, लिटन ब्लॉक गिर रहा है कहानी संग्रह और हिमाचल प्रदेशः मंदिर और लोकश्रुतियाँ पुस्तकों का आकाशवाणी शिमला और एफ.एम पर शृंखलाबद्ध प्रसारण.

S R Harnot Awards

एस. आर. हरनोट को सम्मान व पुरस्कार

अन्तरराष्ट्रीय इन्दु शर्मा कथा सम्मान, जे.सी जोशी शब्द साधक जनप्रिय लेखक सम्मान, हिमाचल राज्य अकादमी पुरस्कार, हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम द्वारा पर्यटन और साहित्य सम्मान, अखिल भारतीय भारतेन्दु हरिश्चन्द्र एवार्ड, हिमाचल गौरव सम्मान, प्राचीन कला केन्द्र चण्डीगढ़ द्वारा श्रेष्ठ साहित्य सम्मान, हिमाचल केसरी एवार्ड, दिव्य हिमाचल दैनिक समाचार पत्र द्वारा हिमाचल दिस वीक अंग्रेजी साप्ताहिक के माध्यम से ‘फिक्शन राइटर ऑफ द ईयर एवार्ड. हिमाचल प्रदेश के प्रतिष्ठित दैनिक समाचार पत्र ‘दिव्य हिमाचल‘ का एक्सेलेंस एवार्ड-२०१९.

 

सम्प्रति

स्वतन्त्र लेखन के साथ खेती बाड़ी और ग्रामीण विकास सभा चनावग, तहसील सुन्नी, हि.प्र. की स्थापना और अपने क्षेत्र में सामाजिक कार्य। हिमालय साहित्य, संस्कृति एवं पर्यावरण मंच का संचालन.

 

एस. आर. हरनोट का स्थायी निवास

साहित्य कुंज, मारलब्रो हाउस, धरातल मंजिल, हिमाचल सचिवालय के समीप, छोटा शिमला, शिमला-१७१००२ (हि.प्र.).

 

संपर्क- [email protected]

 

Leave a Comment