कविता, कहानी, ग़ज़ल, गीत, पौराणिक, धार्मिक एवं अन्य विधाओं का मायाजाल

विज्ञापन

भारत ज़मीन का टुकड़ा नहीं – अटल बिहारी वाजपेयी

भारत ज़मीन का टुकड़ा नहीं - अटल बिहारी वाजपेयी

भारत ज़मीन का टुकड़ा नहीं - अटल बिहारी वाजपेयी

 

भारत जमीन का टुकड़ा नहीं,
जीता जागता राष्ट्रपुरुष है।
हिमालय मस्तक है, कश्मीर किरीट है,
पंजाब और बंगाल दो विशाल कंधे हैं।
पूर्वी और पश्चिमी घाट दो विशाल जंघायें हैं।
कन्याकुमारी इसके चरण हैं, सागर इसके पग
पखारता है।
यह चन्दन की भूमि है, अभिनन्दन की भूमि है,
यह तर्पण की भूमि है, यह अर्पण की भूमि है।
इसका कंकर-कंकर शंकर है,
इसका बिन्दु-बिन्दु गंगाजल है।
हम जियेंगे तो इसके लिये
मरेंगे तो इसके लिये।

Related Post

अगर आप भी लिखते है तो हमें ज़रूर भेजे, हमारा पता है:

विज्ञापन
विज्ञापन

साहित्य: team@literatureinindia.in

हमारे प्रयास में अपना सहयोग अवश्य दें, फेसबुक पर अथवा ट्विटर पर हमसे जुड़ें

लिटरेचर इन इंडिया: हिंदी प्रेमियों द्वारा संचालित हिंदी साहित्य, समाचार एवं अन्य उपयोगी हिंदी सामग्री का मायाजाल
विज्ञापन
हाल फ़िलहाल
विज्ञापन