कविता, कहानी, ग़ज़ल, गीत, पौराणिक, धार्मिक एवं अन्य विधाओं का मायाजाल

विज्ञापन

जो भी कमज़ोर हैं मुश्किलों में हैं सब

जो भी कमज़ोर हैं मुश्किलों में हैं सब

जो भी कमज़ोर हैं
मुश्किलों में हैं सब
सियासतदारों ने तो
मुँह हैं उधर कर लिया

किससे बोले अब हम
किसको बताएँ ये सब
दिलों के कोनों में
सियासत ने ज़हर भर दिया

काफी मुद्दत से जो
न हम कह सके
उससे हमको ही उसने
बेख़बर कर दिया

अब लिखते हैं तो
कम पढ़तें हैं लोग
हवा के झोकों ने
बेफिकर कर दिया

Related Post

कोई बताये ये
जाकर उनसे कभी
रात को भी हमने
सहर कर लिया

अब तो आहें भी
भरते हैं सादगी से बड़ी
दर्द को भी हमने
हमसफ़र कर लिया

अब न पूछे कोई
न ही जवाब है अब
रोज के किस्सों ने
आवाज़ बेअसर कर दिया

दीपक सिंह: दीपक सिंह (ठाकुर दीपक सिंह कवि) कवि, कथाकार, पत्रकार एवं संपादक हैं
विज्ञापन
हाल फ़िलहाल
विज्ञापन