कविता, कहानी, ग़ज़ल, गीत, पौराणिक, धार्मिक एवं अन्य विधाओं का मायाजाल

विज्ञापन

कैफ़ी आज़मी

कोई ये कैसे बताये के वो तन्हा क्यों है – कैफ़ी आज़मी

  कोई ये कैसे बताये के वो तन्हा क्यों हैं वो जो अपना था वो ही और किसी का क्यों हैं यही दुनिया है तो…

विज्ञापन