हम सिसक सिसक सो जाते है

हम सिसक सिसक सो जाते है

तेरा मेरी गली से गुजरना, मेरी नजरों पे आके वो रुकना । उन यादों के दामन थामे, हम संभल-संभल रुक जाते हैं।। तेरी बातों पे मेरा बिखरना, मेरे साये से तेरा लिपटना। उन लम्हों को पास यू पाके, हम मचल-मचल रह जाते हैं।। तेरी रातों में मेरा वो सपना, मेरी सुबहो में तेरा वो जगना। […]

भुलाना न आसान होगा

भूलना न आसान होगा

  दी खुशियां तूने जो मुझको, भुलाना न आसान होगा, मेरी हर कामयाबी पे, तेरा ही नाम होगा। रखूँगा तेरे हर तर्ज़ को, खुद में समां कर इस तरह, भूल कर भी खुद को, भुलाना न आसान होगा । खुदा भी तुझे मेरा कर, यह सोचता होगा, बेमिसाल इस प्यार को, भुलाना न आसान होगा। […]

कोई ये कैसे बताये के वो तन्हा क्यों है – कैफ़ी आज़मी

कोई ये कैसे बताये के वो तन्हा क्यों हैं

  कोई ये कैसे बताये के वो तन्हा क्यों हैं वो जो अपना था वो ही और किसी का क्यों हैं यही दुनिया है तो फिर ऐसी ये दुनिया क्यों हैं यही होता हैं तो आखिर यही होता क्यों हैं एक ज़रा हाथ बढ़ा, दे तो पकड़ लें दामन उसके सीने में समा जाये हमारी […]