Author: लिटरेचर इन इंडिया

असग़र वजाहत 
November 22, 2019 30 SEC READ लिटरेचर इन इंडिया

मूलतः और प्रथमतः असग़र वजाहत कहानीकार हैं। कहानी के बाद उन्होंने गद्य साहित्य की लगभग सभी विधाओं में लेखन किया और अपने लिए हमेशा नए प्रतिमान बनाए। अपने लिए जिस भी विधा को उन्होंने चुना वहाँ हमेशा पहले दर्जे की रचना संभव हुई। असग़र वजाहत के लेखन में अनेक कहानी संग्रह, पाँच उपन्यास, आठ नाटक और कई अन्य रचनाएँ शामिल हैं। इनकी पहली कहानी 1964 के आसपास छपी थी तथा पहला कहानी संग्रह ‘अंधेरे से’ 1976 में आपातकाल के दौरान पंकज बिष्ट के साथ (संयुक्त रूप से) छपा था। इनकी कहानियों के अनुवाद अंग्रेजी, इतालवी, रूसी, फ्रेंच, ईरानी, उज्बेक, हंगेरियन, पोलिश आदि भाषाओं में हो चुके हैं।

अरुण कमल
November 20, 2019 23 SEC READ लिटरेचर इन इंडिया

अरुण कमल का वास्तविक नाम ‘अरुण कुमार’ है। साहित्यिक लेखन के लिए उन्होंने ‘अरुण कमल’ नाम अपनाया और यही नाम उनकी स्वाभाविक पहचान बन गया है। उनका जन्म 15 फरवरी 1954 ई० को बिहार के रोहतास जिले के नासरीगंज में हुआ था। पेशे से वे पटना विश्वविद्यालय के अंग्रेजी विभाग में प्राध्यापक हैं।

Hindi Sahitya ka Itihaas
September 7, 2019 30 SEC READ लिटरेचर इन इंडिया

हिंदी साहित्य के 900 वर्षों के इतिहास को चार कालों में विभक्त कर सकते हैं–

आदिकाल (वीरगाथाकाल, संवत् 1050-1375)
पूर्व मध्यकाल (भक्तिकाल, संवत् 1375-1700)
उत्तर मध्यकाल (रीतिकाल, संवत् 1700-1900)
आधुनिक काल (गद्यकाल, संवत् 1900-1984)