आपका स्वागत है

लिटरेचर इन इंडिया

के साथ सफर कीजिये साहित्य के अद्भुत आयाम का

लिटरेचर इन इंडिया

इस हफ़्ते

अमरकांत की कहानी बहादुर

अरुणा सीतेश

रामचन्द्र शुक्ल का साहित्येतिहास लेखन

कविता

जो भी कमज़ोर हैं मुश्किलों में हैं सब

प्रेम – अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’

शहर – अरुण कमल

आचार्य रामचन्द्र शुक्ल

आधुनिक काल में गद्य
का आविर्भाव सबसे प्रधान साहित्यिक घटना है

हमारे साहित्य के भीतर जितनी अनेकरूपता का विकास हुआ है, उनको आरंभ तक लाकर, उसमें आगे की प्रवृत्तियों का सामान्य और संक्षिप्त उल्लेख करके ही छोड़ देने का था क्योंकि वर्तमान लेखकों और कवियों के संबंध में कुछ लिखना अपने सिर एक बला मोल लेना ही समझ पड़ता था। पर जी न माना। वर्तमान सहयोगियों तथा उनकी अमूल्य कृतियों का उल्लेख भी थोड़े-बहुत विवेचन के साथ डरते-डरते किया गया।

हिंदी साहित्य के स्वर्णिम रचनाकार

साहित्य ध्वज वाहक

Munshi Premchand
मुंशी प्रेमचंद
Kabir Das
कबीर दास
प्रेम – अयोध्या सिंह उपाध्याय ‘हरिऔध’
अयोध्या सिंह
मेरी भाषा के लोग – केदारनाथ सिंह
केदारनाथ सिंह
मेरे देश की आँखें - अज्ञेय
अज्ञेय
भारत ज़मीन का टुकड़ा नहीं - अटल बिहारी वाजपेयी
अटल बिहारी वाजपेयी